Breaking

Monday, March 29, 2021

आज पुलिस थाने में शख्स को पीट-पीटकर मार दिया है और लोगों ने प्रदर्शन भी शुरू कर दिया है

 भागलपुर : पुलिस थाने में एक शख्स की मौत के बाद परिजनों ने किया हंगामा और लोगों ने किया प्रदर्शन।


कार्यरत लघु सिंचाई विभाग के संजय यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया था।


बताया जा रहा था कि संजय यादव के साथ बच्चों के बीच विवाद था इसीलिए पुलिस ने रात को 10:00 बजे संजय यादव को थाने में लेकर आए थे। थाने लाने के बाद इस शख्स की हालत बहुत खराब हो जाती है और इसे अस्पताल में भर्ती किया जाता है जहां पर इस की मौके पर ही मृत्यु हो जाती है और पुलिस वहां से फरार हो जाती है।

पुलिस थाने में एक शख्स की मौत के बाद परिजनों ने किया हंगामा और लोगों ने किया प्रदर्शन।

पुलिस थाने में एक शख्स की मौत के बाद परिजनों ने किया हंगामा और लोगों ने किया प्रदर्शन।





जब मृतक के परिवार को यह खबर मालूम चलती है। मृतक के परिवार के साथ साथ उनके पड़ोसी भी प्रदर्शन करने के लिए थाने पहुंचते हैं ।

लेकिन थाने पहुंचने के बाद देखते हैं कि साड़ी पुलिस थाने से फरार हो चुकी है।

मृतक के परिवार का यह आरोप है कि पुलिस ने इसे बहुत बुरी तरह बहुत बेरहमी से मारा है इसी वजह से इसकी मौत हो गई।


इस शख्स को पुलिस ने इतनी बेरहमी से और इतनी बुरी तरह से मारा है कि इसकी मौत हो गई और इसी को लेकर जनता के बीच आक्रोश  है और वह प्रदर्शन करने लगे हैं थाने के सामने आकर।


मृतक का बेटी का कहना है कि पुलिस बेवजह मेरे पापा को घर में घुसकर मार रहे थे और उनके गले में जो गमछा था उन्हें पकड़कर घसीट कर थाने ले गए और वहां पर जाकर उनको बड़ी बेरहमी से मारा जिसके वजह से मेरे पापा का मौत हो गया।


भागलपुर में पुलिस हिरासत में मौत का मामला सुनते हुए एसएसपी निताशा गुड़िया पहुंची बरारी थाना।


निताशा गुड़िया ने मृतक के परिवार परिजनों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि पुलिस की इस शर्मनाक घटना को हम अच्छे से जांच पड़ताल करेंगे और जो दोषी है उसे जरूर कड़ी से कड़ी सजा दिलाएंगे।


एसएसपी निताशा गुड़िया के साथ मृतक के परिजनों के बीच जो बातचीत हुई। इस बातचीत में मृतक के परिजनों ने साफ-साफ दावा किया है इस घटना के दौरान जो जो आरोपी पुलिसकर्मी हैं उनको कड़ी से कड़ी सजा दी जाए उनके ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।


मृतक के परिवार परिजनों का कहना एक छोटी सी बात को लेकर बच्चों के साथ जो विवाद हुआ था उसी के चलते पुलिस बेवजह इस शख्स को रात को 10:00 बजे उठा कर लेकर गए। और पुलिस थाने में बड़ी बेरहमी से इस शख्स के साथ अत्याचार किया इन्हें बहुत बुरी तरह से मारा जिसके वजह से इनकी तबीयत बहुत खराब हो गई। इस शख्स की तबीयत बहुत खराब होने के बाद जब इस शख्स को अस्पताल ले जाया गया तब अस्पताल में ही उनकी मौत हो गई।



सबसे बड़ी बात यह है कि अगर पुलिस ने इसे बड़ी बेरहमी से नहीं मारा है।

 अगर इस शख्स की मौत बड़ी बेरहमी से मारने की वजह से नहीं हुई है तो पुलिस क्यों भागते फिर रही है मृतक के परिवार परिजनों से?


जब आक्रोशित जनता पुलिस थाने पहुंचती है इस मामले को या फिर आप कह सकते हैं इस घटना को जानने के लिए तब पुलिस थाने में कोई भी पुलिसकर्मी क्यों नहीं रहता है अगर पुलिस ने इस शख्स के साथ कुछ गलत नहीं किया है तो?


थाने में जहां पुलिस होनी चाहिए थी वहां पर मृतक के परिजन है लेकिन पुलिस क्यों नहीं है?


आखिर क्यों अभी तक किसी भी तरह की जांच पड़ताल नहीं हुई है इस घटना को लेकर?


अभी तक क्यों इस घटना को लेकर जो जो आरोपी थे जो जो पुलिसकर्मी थे उन्हें क्यों नहीं पकड़ा गया?


अगर पुलिस ही हमारे साथ ऐसे काम करेंगे हम लोग कैसे पुलिस के ऊपर भरोसा करेंगे कि वह हमारे रक्षक है।


जिसे हम हमारे रक्षक मानते हैं आज के दिन में देखा जाए तो वही रक्षक हमारे भक्षक बन चुके हैं।



सिर्फ चंद पैसों के लिए पुलिस बिक चुकी है ।

क्या जनता की सेवा के आगे पुलिस पैसे के लिए बिक चुके हैं?


आजकल सिर्फ पुलिस ही नहीं बहुत सारे ऐसे मीडिया channel और website जो किसी नेता मंत्री के लिए बिक चुके हैं।


मीडिया का काम होता है सच को दुनिया के सामने दिखाना लेकिन अभी के समय बड़े-बड़े मीडिया चैनल सच तो नहीं दिखाते दुनिया के सामने लेकिन झूठ जरूर दिखाते हैं दुनिया के सामने क्योंकि उनसे ही उनका परिवार चलता है।


क्योंकि भैया पैसा बोलता है अगर पैसा ना होना तो दुनिया भी किसी काम की नहीं होती क्या यही सच हो रहा है आजकल के समय में।


आपको जो भी लगता है कमेंट बॉक्स में जरूर कमेंट करें।


हमारे इस सच्ची मीडिया वेबसाइट के साथ जुड़े रहे ताकि आपको सच्ची खबर सबसे पहले मिले और आप सिर्फ सच  जान पाए। और हमें सपोर्ट करने के लिए आपको धन्यवाद।


और हमारी यह खबर दुनिया भर में शेयर करें ताकि इस चंद पैसे के लिए बीके हुए पुलिसकर्मियों को सजा मिले और इनके ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

No comments:

Post a Comment